विकास प्राधिकरण की बोर्ड बैठक में कुछ ही मिनटों में मंजूरी मिली; ट्रस्ट को 5 करोड़ से ज्यादा फीस जमा करनी होगी

उत्तर प्रदेश में अयोध्या में राम मंदिर निर्माण का नक्शे भी पास हो गया है। बुधवार को अयोध्या विकास प्राधिकरण की बोर्ड बैठक में इसे कुछ मिनटों में सभी सदस्यों ने सर्वसम्मति से मंजूरी दी। राम मंदिर ट्रस्ट का कहना है कि अब जल्द मंदिर निर्माण के लिए नींव की खुदाई का काम शुरू हो जाएगा।

राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट ने 70 एकड़ परिसर के दो नक्शे स्वीकृति के लिए जमा किए थे। विकास प्राधिकरण के चेयरमैन और कमिश्नर अग्रवाल ने बताया कि एक नक्शा 2 लाख 74 हजार वर्ग मीटर के लेआउट का है। यह ओपन एरिया है। जबकि दूसरा नक्शा राम मंदिर का है, जो 12,879 वर्ग मीटर कवर्ड क्षेत्र में है। दोनों नक्शे बोर्ड की बैठक में पास कर दिए गए। इन पर लगने वाले टैंकर्स का आकलन किया जा रहा है, जिसे जमा करने पर नक्शे राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट को सौंप दिए जाएंगे।

ट्रस्ट को यह शुल्क जमा करना होगा
राम मंदिर ट्रस्ट को डेवलपमेंट फीस के साथ मेंटेनेंस फीस, सुपरविजन और लेबर सेस भी देना होगा। इस राशि को जोड़ा जा रहा है। करीब 5 करोड़ रुपए डेवलपमेंट फीस और अन्य शुल्क आने की उम्मीद है। इसमें निर्माण पर लगने वाला लेबर सेस भी शामिल है। ट्रस्ट की तरफ से जमा की जाने वाली यह फीस आयकर छूट के बाद की है। बोर्ड के मुताबिक वह प्राधिकरण शुल्क जमा करने के लिए ट्रस्ट को पत्र जारी करेगा। ट्रस्ट उसी के बाद धनराशि जमा करेगा।

अयोध्या विकास प्राधिकरण की बैठक कमिश्नर की अध्यक्षता में हुई। इसमें उपाध्यक्ष डॉ. नीरज शुक्ला, बोर्ड के सदस्य डीएम अनुज झा और अन्य मेंबर भी मौजूद रहे।

एक महीने पहले प्रधानमंत्री ने मंदिर निर्माण के लिए भूमिपूजन किया था
5 अगस्त को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अयोध्या में राम मंदिर का भूमि पूजन किया था। एक दिन पहले राम मंदिर के मॉडल की तस्वीरें सामने आई थीं। 161 फीट ऊंचे राम मंदिर में पांच मंडप और एक मुख्य शिखर है। दावा है कि अयोध्या के हर कोने से यह मंदिर दिखेगा। साल 1989 में राम मंदिर का मॉडल बनाया गया था। जिसमें श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट ने बदलाव किया है। यह मंदिर साढ़े तीन साल में बनकर तैयार होगा।

3 एकड़ में मंदिर, 65 एकड़ में परिसर होगा
राम मंदिर का नक्शा तैयार करने वाले चीफ आर्किटेक्ट सोमपुरा के बेटे निखिल सोमपुरा के मुताबिक, मंदिर के पास 70 एकड़ जमीन है। लेकिन, मंदिर 3 एकड़ में ही बनेगा। बाकी 65 एकड़ की जमीन पर मंदिर परिसर का विस्तार किया जाएगा। मंदिर में एक दिन में एक लाख राम भक्त पहुंच सकेंगे। मंदिर के मॉडल में बदलाव किया गया है।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
राम मंदिर के लिए 12 से 14 फीट ऊंचाई का प्लेटफार्म बनाया जाएगा। मंदिर में श्रद्धालुओं के बैठने, प्रार्थना करने के लिए मंडप बनाया गया है। यहां परिक्रमा मार्ग भी है।

Comments

Popular posts from this blog

कोतवाली में हाथ जोड़कर मिन्नतें करती रही महिला, कोतवाल ने मारी लात, वीडियो वायरल

सेना के जवान के खिलाफ पाकिस्तान के लिए जासूसी के सबूत मिले, UP ATS की टीम कर रही कड़ी पूछताछ

अभिभावकों से वसूली पूरी फीस, कर्मचारियों का वेतन काट उन्हें निकाला