बिकरू कांड में आरोपी गुड्डन त्रिवेदी का शस्त्र लाइसेंस निरस्त, सोशल मीडिया पर वायरल हुई थी फोटो

कानपुर में थाना चौबेपुर के अंतर्गत 2 और 3 जुलाई की मध्य रात्रि हुए बिकरु कांड को लगभग 3 महीने से ऊपर हो चुके हैं। पुलिस प्रशासन के साथ जिला प्रशासन की कार्यवाही अभी भी इस कांड में शामिल लोगों पर हो रही है। इस बीच कानपुर देहात के जिलाधिकारी ने बिकरु कांड के मुख्य आरोपी विकास दुबे का दाहिना हाथ कहे जाने वाले जिला पंचायत सदस्य अरविंद उर्फ गुड्डन त्रिवेदी के दो शस्त्र लाइसेंस को निरस्त करने के आदेश दे दिए हैं।

अरविंद उर्फ गुड्डन त्रिवेदी को मुंबई से एसटीएफ ने गिरफ्तार किया था। कोर्ट में पेश किए जाने के बाद उसे न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया गया था। लेकिन, गिरफ्तारी से ठीक पहले बिकरु कांड में नाम आने के बाद से लगातार सोशल मीडिया पर कई असलहों के साथ उसकी फोटो वायरल हो रही थी। इसको लेकर जिला प्रशासन वा पुलिस प्रशासन पर भी सवाल खड़े होने लगे थे इतने शातिर अपराधी को शस्त्र लाइसेंस किस आधार पर जारी कर दिया गया।

गुड्‌डन पर चल रहे कई आपराधिक मुकदमे

गुड्‌डन के ऊपर पहले से ही कई अपराधी मुकदमे चल रहे थे। इसके बाद से ही उसके शस्त्र लाइसेंस के निरस्तीकरण की कार्रवाई शुरू हो गई थी और पुलिस ने उसके शस्त्र लाइसेंस के निरस्तीकरण की रिपोर्ट जिलाधिकारी को सौंपी थी। जिस रिपोर्ट के आधार पर कानपुर देहात के जिलाधिकारी डॉ. दिनेशचंद्र ने शस्त्र लाइसेंस के निरस्तीकरण के मामले को संज्ञान में लेते हुए अरविंद उर्फ गुड्डन त्रिवेदी के दो शस्त्र लाइसेंस को जिलाधिकारी ने निरस्त करने का आदेश जारी कर दिया है।

क्या बोले जिलाधिकारी
कानपुर देहात के जिलाधिकारी डॉ. दिनेशचंद्र ने बताया कि बिकरु कांड में आराेपी अरविंद उर्फ गुड्डन त्रिवेदी के नाम जारी दो शस्त्र लाइसेंस जारी किए गए थे जिन्हें तत्काल प्रभाव से निरस्त कर दिए गए हैं।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
यूपी की कानपुर पुलिस ने गुड्डन त्रिवेदी के शस्त्र लाइसेंस निरस्त कर दिए हैं। इसको हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे का खास माना जाता है। - फाइल

Comments

Popular posts from this blog

कोतवाली में हाथ जोड़कर मिन्नतें करती रही महिला, कोतवाल ने मारी लात, वीडियो वायरल

सेना के जवान के खिलाफ पाकिस्तान के लिए जासूसी के सबूत मिले, UP ATS की टीम कर रही कड़ी पूछताछ

अभिभावकों से वसूली पूरी फीस, कर्मचारियों का वेतन काट उन्हें निकाला