अतीक अमहद को सता रहा अपनी हत्या का डर; यूपी नहीं आना चाहता, गुजरात से ही वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए सुनवाई के लिए अर्जी लगाई

यूपी पुलिस बाहुबली विधायक मुख्तार अंसारी को गुजरात से यूपी पेशी के लिए लाना चाहती है। लेकिन, इसी बीच अतीक अहमद ने एमपी एमएलए कोर्ट में अर्जी लगाकर अपने ऊपर चल रहे आपराधिक मामलों की सुनवाई वीडियो कॉन्‍फ्रेंसिंग के जरिए कराने की मांग की है। अतीक को डर है कि यूपी लाने के दौरान कहीं उसकी हत्या न कर दी जाए।

बाहुबली ने अपनी अर्जी में कहा है कि न्यायिक अभिरक्षा में कई बंदियों की हत्या हो चुकी है। 2019 में मुन्ना बजरंगी की बागपत जेल में विरोधियों ने हत्‍या कर दी थी। इसके साथ ही कोविड-19 के चलते भी गुजरात से समन न किए जाने की मांग अर्जी में की गई है। अतीक इन दिनों अहमदाबाद की साबरमती जेल में बंद है।

मुन्ना बजरंगी की तरह हत्या होने की आशंका
अतीक अहमद के वकील ने एमपी-एमएलए कोर्ट में अर्जी दाखिल की है। इस अर्जी में मुन्ना बजरंगी की तरह हत्या होने की आशंका जताई गई है। जेल में प्रयागराज से उसका बयान लेने गए एक पुलिसकर्मी ने उसे ऐसी जानकारी दी है कि उसे न्यायिक अभिरक्षा में तलब कर रास्ते में हत्या की साजिश रची जा रही है।

कई बीमारियों से ग्रसित होने का हवाला दिया
अतीक ने अर्जी में अहमदाबाद से प्रयागराज के बीच 1450 किलोमीटर की दूरी का हवाला देते हुए स्पेशल कोर्ट में चल रहे मुकदमों में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए सुनवाई की मांग की है। उसका कहना है कि अहमदाबाद की जेल में वह कई गंभीर बीमारियों की चपेट में आ गया है। वह किडनी और रीढ़ की हड्डी की गंभीर बीमारी से पीड़ित है। शुगर टाइप वन और हाई ब्लड प्रेशर का भी शिकार है। इसी आधार पर उसे नैनी से अहमदाबाद हवाई सेवा से ट्रांसफर किया गया था।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
बाहुबली पूर्व सांसद अतीक अहमद ने प्रयागराज के एमपी एमएलए कोर्ट में अर्जी लगाकर पेशी के लिए यूपी लाए जाने से छूट देने की अपील की है। अर्जी में कहा है कि यूपी लाते समय उसकी हत्या कराई जा सकती है। - फाइल फोटो

Comments

Popular posts from this blog

कोतवाली में हाथ जोड़कर मिन्नतें करती रही महिला, कोतवाल ने मारी लात, वीडियो वायरल

सेना के जवान के खिलाफ पाकिस्तान के लिए जासूसी के सबूत मिले, UP ATS की टीम कर रही कड़ी पूछताछ

अभिभावकों से वसूली पूरी फीस, कर्मचारियों का वेतन काट उन्हें निकाला