12 घंटे बाद भी पुलिस खाली हाथ; कानून मंत्री ने 24 घंटे का अल्टीमेटम दिया, अंतिम यात्रा में उमड़ा जनसैलाब

राजधानी लखनऊ के मोहनलालगंज व्यापार मंडल अध्यक्ष और प्रधानपति सुजीत कुमार पांडेय की हत्या के मामले में पुलिस 12 घंटे के बाद भी खाली हाथ है। पुलिस अब तक हत्यारों का पता नहीं लगा सकी है। इसको लेकर आक्रोश है। सोमवार को शव यात्रा निकाली गई तो जनसैलाब उमड़ पड़ा। अंतिम यात्रा में कैबिनेट मंत्री बृजेश पाठक, मोहनलालगंज सांसद कौशल किशोर, सपा विधायक अमरीश पुष्कर समेत तमाम स्थानीय प्रतिनिधि मौजूद रहे। प्रथम दृष्टया पुलिस रंजिश में हत्या कराए जाने को लेकर जांच कर रही हैं।

अंतिम यात्रा में उमड़ा जनसैलाब।

कैबिनेट मंत्री बोले- 24 घंटे के भीतर हत्यारों की गिरफ्तारी हो
हत्या के मामले को लेकर कैबिनेट मंत्री बृजेश पाठक ने कहना है कि, मृतक सुजीत पांडेय से हमारे पारिवारिक रिश्ते थे। इस मामले को लेकर हमने पुलिस अधिकारियो से बात की है। जल्द हत्यारों की गिरफ्तारी के निर्देश दिए हैं। हत्यारों को फांसी की सजा हो इसके लिए मामले को हम फास्ट ट्रैक कोर्ट में चलाएंगे। इस हत्याकांड को किन लोगों ने और क्यो अंजाम दिया है? इसके लिए 24 घंटे में हत्यारों की गिरफ्तारी के निर्देश मैंने दिए हैं।

लखनऊ में हत्या:सफारी से उतरते ही व्यापार मंडल के अध्यक्ष को बाइक सवार बदमाशों ने ताबड़तोड़ मारी आठ गोलियां, मौके पर हुई मौत

कानून मंत्री बृजेश पाठक ने परिवार को सांत्वना दी।


क्या था पूरा मामला?
मोहनलालगंज के गौरा खेड़ा में रविवार रात को बाइक सवार दो बदमाशों ने ईट-भट्टे के पास गोली मार दी। गाड़ी से उतरते ही बदमाशों ने सुजीत पांडेय पर ताबड़तोड़ गोलियां बरसाई गई। पुलिस कमिश्नर का कहना है कि बचाव में सुजीत पांडेय ने भी फायर किया। बदमाश गोली मारने के बाद मौके से फरार हो गए हैं। जिनकी तलाश के लिए कई टीमें लगाई गई हैं। हमारी टीम सभी एंगल पर जांच कर रही है। जल्द ही बदमाश पकड़े जाएंगे।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
यह फोटो लखनऊ की है। प्रधान पति की अंतिम यात्रा में उमड़ा जनसैलाब।

Comments

Popular posts from this blog

कोतवाली में हाथ जोड़कर मिन्नतें करती रही महिला, कोतवाल ने मारी लात, वीडियो वायरल

सेना के जवान के खिलाफ पाकिस्तान के लिए जासूसी के सबूत मिले, UP ATS की टीम कर रही कड़ी पूछताछ

अभिभावकों से वसूली पूरी फीस, कर्मचारियों का वेतन काट उन्हें निकाला