गन्ना मंत्री ने सुरेश राणा ने कहा- एक लाख 12,829 करोड़ रुपए का गन्ना भुगतान सरकार ने किया, यह आजादी के बाद से सबसे ज्यादा

उत्तर प्रदेश के गन्ना विकास मंत्री सुरेश राणा ने साढ़े तीन गन्ना के लिए कार्यों के बारे में बताया। मंत्री ने कहा कि बीते साढ़े तीन साल में पीएम मोदी और सीएम योगी की नीति किसानों को लाभ देने पर काम किया। सीएम योगी के मार्गदर्शन का आभारी हूं। 70 करोड़ लीटर एथेनॉल आपूर्ति में यूपी नम्बर एक पर है। गन्ना मंत्री कहा कि, सीएम योगी की जब सरकार आई तो 5 से 6 वर्षों का गन्ना भुगतान का बकाया था जो हमने गन्ना भुगतान पर फोकस किया।

सुरेश राणा ने आज लोक भवन में प्रेस वार्ता करते हुए यह बातें कही। बताया कि पिछले साढ़े तीन वर्ष में योगी आदित्यनाथ सरकार ने गन्ना किसानों का एक लाख 12,829 करोड़ रुपए का गन्ना भुगतान किया है। यह भुगतान आजादी के बाद से 70 वर्ष बाद अब तक का सर्वाधिक भुगतान है। हमारी गन्ना समितियों में लगभग 67 लाख गन्ना किसान पंजीकृत हैं।

देश में चीनी उत्पादन में यूपी की हिस्सेदारी 47 फीसदी

इसके साथ ही विभाग तीन करोड़ 35 लाख परिवारों के साथ जुड़ा है। प्रदेश की कुल जीडीपी में में गन्ना विभाग की हिस्सेदारी 8.45 प्रतिशत है और कृषि क्षेत्र की जीडीपी में में 20.18 प्रतिशत है। देश में चीनी उत्पादन में उत्तर प्रदेश की हिस्सेदारी 47 प्रतिशत है। 1.12 लाख करोड़ रुपए का अबतक हमने गन्ना किसानों को भुगतान किया। पूर्व सरकारों से कई गुना ज्यादा भुगतान योगी सरकार ने किया।

कहा कि योगी आदित्यनाथ सरकार से पहले सत्ता पर काबिज रही सरकारों ने चीनी मिल मालिकों के साथ गठजोड़ करके किसानों की बड़ी धनराशि को दबा रखा था। सीएम योगी आदित्यनाथ ने सत्ता संभालने के बाद सबसे पहले किसानों के पक्ष में फैसले लेना शुरू किया पिछली सरकारों ने सिर्फ किसानों को धोखा दिया है।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
यूपी के गन्ना मंत्री सुरेश राणा ने आज लोक भवन में प्रेस वार्ता करते हुए योगी सरकार की उपलब्धियां गिनाईं। कहा कि आजादी के बाद सबसे अधिक योगी सरकार ने गन्ना किसानों का भुगतान किया है।

Comments

Popular posts from this blog

कोतवाली में हाथ जोड़कर मिन्नतें करती रही महिला, कोतवाल ने मारी लात, वीडियो वायरल

सेना के जवान के खिलाफ पाकिस्तान के लिए जासूसी के सबूत मिले, UP ATS की टीम कर रही कड़ी पूछताछ

अभिभावकों से वसूली पूरी फीस, कर्मचारियों का वेतन काट उन्हें निकाला