जमीन के विवाद में बुजुर्ग और लिव-इन में रह रही महिला की गला दबाकर हत्या; 3 बेटों समेत 5 गिरफ्तार

उत्तर प्रदेश की राजधानी में डबल मर्डर का मामला सामने आया है। जिसका पुलिस ने महज 5 घंटे के भीतर खुलासा भी कर दिया। दरअसल, मड़ियांव थाना क्षेत्र में जमीन विवाद में तीन बेटों ने अपने पिता व लिव इन रिलेशनशिप में रह रही सौतेली मां की गला दबाकर हत्या कर दी। इस वारदात में मृतक के दो पोते भी शामिल रहे। पुलिस ने पांचों को गिरफ्तार कर लिया है। सभी ने अपना जुर्म कबूल कर लिया है। पुलिस ने शवों को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है।


जमीन बेचने को लेकर हुआ था विवाद
पुलिस कमिश्नर डीके ठाकुर ने बताया कि मड़ियांव थाना क्षेत्र के केशव नगर इलाके में 70 साल के राम दयाल अपनी कथित पत्नी 60 साल की शांति देवी के साथ रहते थे। रात 1 बजे डबल मर्डर की सूचना मिली। मौके पर पहुंची पुलिस ने जांच शुरू की। पता चला कि मृतक रामदयाल के साथ शांति देवी लिविंग रिलेशन में रह रही थी। राम दयाल के पांच बेटे व दो बेटियां पहली पत्नी से हैं, जो अलग रहते हैं। दरअसल, इटौंजा में सड़क किनारे बेशकीमती जमीन बेचने को लेकर पिता-पुत्रों में बहस हुई। इसी दौरान शांति देवी ने कहा- हम सारी जमीनें बेच देंगे। बात बढ़ने पर तीन बेटों ने अपने दो बच्चों के साथ मिलकर पिता राम दयाल और शांति देवी की गला दबाकर हत्या कर दी। पुलिस ने पांचों को गिरफ्तार कर FIR दर्ज कर लिया है।


15 साल से परिवार के साथ अलग रह रहा था रामदयाल
जांच में यह भी पता चला कि रामदयाल 15 साल से कथित प्रेमी शांति देवी के साथ अलग रह रहा था। रामदयाल के पास 2 बीघा सड़क किनारे इटौंजा में बेशकीमती जमीन है। जमीन की कीमत करीब 57 लाख के ऊपर बताई जा रही है। जमीन का रामदयाल ने सौदा कर लिया था। सऊदी से 4.50 लाख रुपए शांति देवी के खाते में और 11 लाख रामदयाल के पास आए थे। जिस पर कथित प्रेमिका पत्नी की नजर थी। इसी बात को लेकर आए दिन विवाद होता था।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
लखनऊ में हुए डबल मर्डर की वारदात सोमवार की रात साढ़े 9 बजे की है। लेकिन पुलिस को रात 1 बजे सूचना दी गई।

Comments

Popular posts from this blog

कोतवाली में हाथ जोड़कर मिन्नतें करती रही महिला, कोतवाल ने मारी लात, वीडियो वायरल

सेना के जवान के खिलाफ पाकिस्तान के लिए जासूसी के सबूत मिले, UP ATS की टीम कर रही कड़ी पूछताछ

अभिभावकों से वसूली पूरी फीस, कर्मचारियों का वेतन काट उन्हें निकाला