गाजीपुर में बाहुबली के करीबी प्रॉपर्टी डीलर गणेश की 6 मंजिला बिल्डिंग पर चला बुलडोजर; ढहाने में आए खर्च की होगी वसूली

मऊ से बाहुबली विधायक मुख्तार अंसारी और उनके परिवारजनों-करीबियों पर शासन व प्रशासन का शिकंजा कसता जा रहा है। रविवार को अंसारी के रियल एस्टेट धंधे का प्रबंधन देखने वाले प्रॉपर्टी डीलर गणेश दत्त मिश्र के छह मंजिला बिल्डिंग को ढहाया जा रहा है। यह बिल्डिंग रजदेपुर देहाती स्थित श्रीराम कॉलोनी में है। यह प्रॉपर्टी गणेश के पिता के नाम है। प्रशासन के अनुसार, निर्माण में मास्टर प्लान के नियमों की अनदेखी की गई। इस मामले को लेकर गणेश हाईकोर्ट भी गए थे, मगर वहां भी उन्हें राहत नहीं मिली थी।

मौके पर मौजूद प्रशासनिक अधिकारी व अन्य।

हाईकोर्ट से भी नहीं मिली थी राहत
प्रॉपर्टी डीलर गणेश दत्त मिश्रा बीते 32 सालों से रियल एस्टेट के कारोबार से जुड़े हैं। उनका कारोबार गाजीपुर के अलावा मऊ व लखनऊ में भी फैला है। गणेश शहर से सटे रजदेपुर देहाती स्थित श्रीराम कॉलोनी में अपने पिता शिवशंकर मिश्र के नाम की प्रॉपर्टी पर निर्माण करा रहे हैं लेकिन प्रशासन ने इसे अवैध करार दिया है। आरोप है कि मास्टर प्लान के नियमों का पालन नहीं किया गया। इसके बाद SDM सदर ने 12 नवंबर को ध्वस्तीकरण के लिए नोटिस जारी किया। उन्होंने सख्त निर्देश दिया था कि एक सप्ताह के अंदर अगर वह स्वयं अवैध निर्माण नहीं गिराएंगे तो प्रशासन इसे ध्वस्त कर देगा। इसमें जो भी खर्च आएगा, उसे उनसे वसूल किया जाएगा।

DM ने SDM के आदेश पर लगाई मुहर

इस पर प्रॉपर्टी मालिक ने जिलाधिकारी के यहां अपील दाखिल की थी। शनिवार की रात DM एमपी सिंह की अगुवाई वाली 8 सदस्यीय बोर्ड ने SDM के आदेश पर मुहर लगा दी। DM ने स्टे खारिज करते हुए बोर्ड का फैसला सार्वजनिक किया। रविवार की सुबह प्रशासन की टीम मौके पर पहुंची और हाइड्रोलिक JCB से 6 मंजिला बिल्डिंग को ढहाने का काम शुरू किया गया है।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
यह फोटो गाजीपुर की है। प्रॉपर्टी डीलर के 6 मंजिला बिल्डिंग को गिराने का काम जारी।

Comments

Popular posts from this blog

कोतवाली में हाथ जोड़कर मिन्नतें करती रही महिला, कोतवाल ने मारी लात, वीडियो वायरल

सेना के जवान के खिलाफ पाकिस्तान के लिए जासूसी के सबूत मिले, UP ATS की टीम कर रही कड़ी पूछताछ

अभिभावकों से वसूली पूरी फीस, कर्मचारियों का वेतन काट उन्हें निकाला