अब्दुल्ला आजम को विधायक के तौर पर मिले वेतन-भत्ते की वसूली होगी; 65 लाख जमा करने का नोटिस

उत्तर प्रदेश के रामपुर सीट से सपा सांसद और पूर्व मंत्री आजम खान और उनके बेटे अब्दुल्ला की मुसीबतें कम होने का नाम नहीं ले रही हैं। हालांकि, आजम उनकी पत्नी और बेटा अब्दुल्ला तीनों इस समय सीतापुर की जेल में बंद हैं। इस बीच आजम के बेटे अब्दुल्ला पर एक और शिकंजा कसा गया है।

मुख्य लेखा अधिकारी ने अब्दुल्ला को नोटिस जारी कर विधायक रहते हुए वेतन और भत्ते के रूप में लिए गए 65 लाख रुपए जमा करने का आदेश दिया है। अब्दुल्ला खान ने 2017 में हुए विधानसभा उपचुनाव में स्वार विधानसभा क्षेत्र से सपा के टिकट पर चुनाव लड़ा था, जहां से जीतकर विधायक बने थे। इसके बाद अब्दुल्ला खान पर फर्जी प्रमाण पत्रों के आधार पर चुनाव लड़ने का आरोप लगने लगा।

उपचुनाव के दौरान बसपा प्रत्याशी रहे नवाब काजिम अली खान उर्फ नवेद मियां ने हाईकोर्ट में एक रिट दायर की थी। इसमें कहा गया था कि अब्दुल्ला फर्जी प्रमाण पत्र के आधार पर चुनाव लड़ा है। मामले में हाईकोर्ट ने प्रमाण पत्रों में गड़बड़ी को देखते हुए विधायक पद से हटा दिया था।

फरवरी 2020 को रिक्त हुई थी विधानसभा सीट
हाईकोर्ट के आदेश के बाद आजम के बेटे अब्दुल्ला की विधायकी रद की गई तो फरवरी 2020 में इस सीट को रिक्त घोषित कर दिया गया। विधानसभा सचिवालय के उप सचिव और मुख्य लेखाधिकारी अनुज कुमार पांडे ने अब्दुल्ला आजम को नोटिस जारी किया है। नोटिस में कहा गया है कि उन्होंने विधायक रहते हुए वेतन भत्ते और अन्य सुविधाओं के रूप में 65 लाख 68 हजार 713 रुपये का इस्तेमाल किया है। इस धनराशि की वसूली होनी है। इसे तीन माह के अंदर जमा कर दें। उन्होंने बताया कि अब्दुल्ला से जो राशि की वसूली होगी उस रकम को सरकारी कोष में जमा कराया जाएगा।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
यूपी के पूर्व कैबिनेट मंत्री आजम खान के कुनबे की मुसीबतें लगातार बढ़ रही हैँ। आजम के बेटे की विधायकी रद़्द होने के बाद अब उनके खिलाफ 65 लाख रुपए बकाए का नोटिस जारी किया गया है।

Comments

Popular posts from this blog

कोतवाली में हाथ जोड़कर मिन्नतें करती रही महिला, कोतवाल ने मारी लात, वीडियो वायरल

सेना के जवान के खिलाफ पाकिस्तान के लिए जासूसी के सबूत मिले, UP ATS की टीम कर रही कड़ी पूछताछ

अभिभावकों से वसूली पूरी फीस, कर्मचारियों का वेतन काट उन्हें निकाला