लखनऊ में स्मॉग का असर, AQI 412 तक पहुंचा; इंडस्ट्रियल एरिया में खतरनाक स्तर पर वायु प्रदूषण

दिसंबर की शुरुआत के साथ ही राजधानी में स्मॉग ने दोबारा दस्तक दी है। स्मॉग के चलते तापमान में भी गिरावट हुई है। इसके चलते हवा में पीएम 2.5 की मात्रा में अचानक बढ़ोतरी हो गई। बीते 24 घंटे में राजधानी का एयर क्वालिटी डिफेंस (AQI) 412 तक पहुंच गया है। इस स्तर को वायु प्रदूषण के मानकों में अत्यंत खराब कहा जाता है। राजधानी लखनऊ में व्यवसाय क्षेत्र तालकटोरा में AQI 412 तक पहुंच गया हैं, जो कि अत्यंत खराब श्रेणी में है।

यह लखनऊ शहर की फोटो है। सुबह वातावरण में धुंध छाई रही।

शहर के छह स्थानों पर छापेमारी

शहर में लालबाग व तालकटोरा क्षेत्र का AQI खतरनाक स्तर तक पहुंच गया है। लखनऊ के क्षेत्रीय प्रदूषण नियंत्रण अधिकारी डॉ. राम करण ने बताया कि बोर्ड की छापामार टीम ने करीब 8 निर्माण स्थलों का औचक निरीक्षण किया। इसमें छह स्थानों पर प्रदूषण वायु प्रदूषण के मानकों का उल्लंघन पाया गया। उन्होंने बताया कि मानकों का उल्लंघन करने वालों पर सख्त कार्रवाई की जा रही है। उन्हें नोटिस जारी कर जवाब तलब किया गया है।

प्रमुख स्थानों का एयर क्वालिटी इंडेक्स-

क्षेत्र AQI श्रेणी
गोमतीनगर 340 अत्यंत खराब
अलीगंज 353 अत्यंत खराब
लालबाग 406 अत्यंत खराब
तालकटोरा 412 गंभीर/खतरनाक

सुबह कोहरा व दिन में रहेगी धूप

मौसम विभाग के निदेशक JP गुप्ता ने बताया कि सुबह-शाम कोहरा रहेगा। दिन में मौसम साफ रहेगा। बुधवार को शहर का तापमान 25.2 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। यह सामान्य से 0.9 डिग्री कम रहा। वहीं न्यूनतम तापमान 11.2 डिग्री सेल्सियस रहा। यह सामान्य से 1.6 डिग्री सेल्सियस अधिक रहा। मौसम विभाग का कहना है कि दिसंबर में कड़ाके की ठंड 10 के बाद शुरू हो जाएगी। ठंड का असर उत्तर पूर्वी क्षेत्रों में ज्यादा देखने को मिलेगा।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
यह फोटो राजधानी लखनऊ की है। यहां सुबह धुंध छाई रही। AQI का स्तर खतरनाक स्तर पर पहुंचने से सांस रोगियों को काफी दिक्कत हुई।

Comments

Popular posts from this blog

कोतवाली में हाथ जोड़कर मिन्नतें करती रही महिला, कोतवाल ने मारी लात, वीडियो वायरल

सेना के जवान के खिलाफ पाकिस्तान के लिए जासूसी के सबूत मिले, UP ATS की टीम कर रही कड़ी पूछताछ

अभिभावकों से वसूली पूरी फीस, कर्मचारियों का वेतन काट उन्हें निकाला