BJP सांसद साक्षी महाराज ने कहा- पाकिस्तान से ज्यादा हिन्दुस्तान में है मुस्लिम आबादी, इनका अल्पसंख्यक दर्जा समाप्त हो

उत्तर प्रदेश में उन्नाव लोकसभा सीट से भाजपा सांसद साक्षी महाराज ने भारत के मुसलमानों को लेकर बड़ा बयान दिया है। साक्षी महाराज ने केंद्र सरकार से मुसलमानों का अल्पसंख्यक का दर्जा तत्काल समाप्त किए जाने की मांग की है। उन्होंने कहा कि देश में इस वक्त पाकिस्तान की आबादी से ज्यादा हिंदुस्तान में मुसलमानों की जनंसख्या है।

वहीं, किसान आंदोलन को पर राजनितिक दलों पर हमला बोलते हुए कहा कि सरकार कृषि बिल को लेकर बात करने को तैयार है। उन्होंने कांग्रेस पर तंज कसते हुए कहा कि राम मंदिर की तरह कृषि बिल को लेकर भी कांग्रेस व अन्य राजनीतिक दल को सुप्रीम कोर्ट जाना चाहिए, लेकिन अपनी सियासी जमीन तलाशने के लिए भोले-भाले किसानों के कंधे पर बंदूक रखकर चलाई जा रही है।

दरअसल, उन्नाव से बीजेपी सांसद साक्षी महाराज बागपत पहुंचे थे। कहा कि वहीं सिर्फ हिंदुस्तान में मुसलमानों की जनसंख्या 20 करोड़ पहुंच गई है जो चिंता का विषय है और वो अपनी सरकार से तत्काल अल्पसंख्यक का दर्जा समाप्त करने की मांग करते हैं। साक्षी महाराज ने कहा कि देश में जमीन घटती जा रही है और जनसंख्या बढ़ती जा रही है, जिसको लेकर सुप्रीम कोर्ट भी कह चुका है।

किसान आंदोलन को लेकर बोला हमला
किसान आंदोलन को लेकर भी साक्षी महाराज ने राजनितिक दलों पर हमला बोलते हुए कहा कि सरकार कृषि बिल को लेकर बात करने को तैयार है। साथ ही उन्होंने कांग्रेस पर तंज कसते हुए कहा कि जैसे राम मंदिर को लेकर सुप्रीम कोर्ट जा सकती है। कृषि बिल को लेकर भी कांग्रेस व अन्य राजनीतिक दल को सुप्रीम कोर्ट जाना चाहिए। लेकिन अपनी सियासी जमीन तलाशने के लिए भोले भाले किसानों के कंधे पर बंदूक रखकर चलाई जा रही हैं।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
यूपी के उन्नाव से भाजपा सांसद साक्षी महाराज ने शुक्रवार को मुस्लिमों को लेकर विवादित बयान दिया। कहा कि देश में उनके अल्पसंख्यक दर्जे को तुरंत समाप्त कर दिया जाना चाहिए।

Comments

Popular posts from this blog

कोतवाली में हाथ जोड़कर मिन्नतें करती रही महिला, कोतवाल ने मारी लात, वीडियो वायरल

सेना के जवान के खिलाफ पाकिस्तान के लिए जासूसी के सबूत मिले, UP ATS की टीम कर रही कड़ी पूछताछ

अभिभावकों से वसूली पूरी फीस, कर्मचारियों का वेतन काट उन्हें निकाला