आज आधी रात से टोल प्लाजा पर लागू होगा फास्टैग सिस्टम, न होने पर देना होगा दोगुना टोल टैक्स

उत्तर प्रदेश के मेरठ जिले में नए साल पर एनएचएआई ने देश के सभी हाइवे टोल प्लाजा पर वाहनों में फास्टैग अनिवार्य कर दिया है। इस नियम के तहत अब सभी वाहनों को फास्टैग से ही अपना टोल टैक्स देना होगा। यदि आपके वाहन में फास्टैग नहीं होगा तो टोल बूथ पर दोगुना टैक्स वसूला जाएगा। इस नियम को लागू कराने के लिए एनएच 58 पर स्थित वैस्टर्न यूपी टोल प्लाजा पर भी तैयारी की गई है।

मेरठ स्थित वेस्टर्न यूपी टोल प्लाजा पर रोजाना करीब 15 हजार वाहन गुजरते हैं। इनमें 75 प्रतिशत वाहन कारें हैं जबकि 25 प्रतिशत वाहन कॉमर्शियल हैं। इस टोल प्लाजा पर 12 टोल बूथ हैं जिनपर वाहनों से टोल टैक्स लिया जाता है। अभी तक इस टोल प्लाजा के दो बूथ कैश काउंटर थे, यानि इन दोनों काउंटर पर उन वाहनों से टोल वसूला जाता था जिनके पास फास्टैग नहीं था। लेकिन अब 1 जनवरी से लागू हुए नए नियम के तहत इन दोनों कांउटरों की कैश लेन को भी फास्टैग में बदल दिया गया है। अब इस टोल प्लाजा पर शत प्रतिशत फास्टैग से टोल वसूली की तैयारी की गई है। इसके लिए पिछले कई दिनों से टोल प्लाजा प्रबंधन तैयारियों के साथ रिहर्सल भी कर रहा है।

इस तरह से की गई है टोल पर तैयारी
टोल प्लाजा के मैनेजर प्रदीप चौधरी ने दैनिक भास्कर से बात करते हुए बताया कि टोल प्लाजा की सभी 12 लाइनें अब फास्टैग से ही टोल लेंगी। इसके लिए कर्मचारी लगातार वाहन चालकों को मैसेज दे रहे हैं कि वह 1 जनवरी से पहले अपने वाहनों पर फास्टैग लगवालें। इसके लिए अनाउसमेंट भी किया जा रहा है। वाहन स्वामियों को टोल प्लाजा पर पम्पलेट दिये जा रहे हैं और जगह जगह पोस्टर भी लगाए गए हैं। नए नियम को पूरी तरह से लागू कराने के लिए 50 कर्मचारियों की अतिरिक्त डयूटी लगायी गई है। यदि वाहन चालक फास्टैग नहीं लगवाते हैं तो उनसे टोल बूथ पर दोगुना टैक्स वसूला जाएगा।

नए साल से वाहनों से टोल टैक्स नए नियम से वसूलने के लिए टोल प्लाजा प्रबंधन ने अपने सभी टोल बूथ के सिस्टम अपडेट कराए हैं। फास्टैग स्कैन करने में किसी तरह की परेशानी न हो इसके लिए सभी फास्टैग रीडर बदलवा दिये गए हैं। मैनेजर प्रदीप चौधरी ने बताया कि फास्टैग से टोल देने से वाहन 10 सेकेंड में टोल बूथ से निकल जाएगा। इस व्यवस्था से टोल प्लाजा पर लगने वाले जाम से निजात मिलेगी।

अभी तक 60 प्रतिशत फास्टैग
टोल प्लाजा प्रबधंन के अनुसार टोल से करीब 15 हजार वाहन रोज निकलते हैं। इनमें से अभी केवल 60 प्रतिशत वाहनों पर ही फास्टैग लगा है। 40 प्रतिशत वाहन अभी कैश में ही टोल दे रहे हैं। इनमें से 15 प्रतिशत वाहन लोकल हैं जिन्होंने फास्टैग नहीं लिया है। नए नियम के अनुसार टोल प्लाजा के 10 किमी के दायरे में आने वाले लोकल वाहनों को भी तभी टैक्स में छूट का लाभ मिलेगा जब उस पर फास्टैग लगा होगा। एनएचएआई के नियमों के तहत लोकल वाहनों को कार के टोल टैक्स में 75 प्रतिशत और काम​र्शियल वाहन में 50 प्रतिशत की छूट मिलती है।

नए नियम को लागू करनें कई परेशानी भी
टोल प्लाजा के सुरक्षा अधिकारी मनिंदर विहान के अनुसार लोकल वाहन फास्टैग नहीं ले रहे हैं, जिस कारण उन्हें छूट का लाभ नहीं मिलेगा, ऐसे में टोल बूथ पर कर्मचारियों के साथ झगड़े की संभावना बनी रहेगी। सुरक्षा अधिकारी ने बताया कि किसी तरह की समस्या न हो इसके लिए स्थानीय पुलिस मौके पर मौजूद रहेगी। वाहनों को फास्टैग देने के लिए दिन में तो कई बैंक और कंपनी अपने कांउटर खोलती है लेकिन रात में किसी का काउंटर नहीं खुलता, ऐसे में रात में जो वाहन टोल प्लाजा पर पहुंचेंग उन्हें कैसे टैग मिलेंगे या कैसे वह अपना रिचार्ज कराएंगे।

हालांकि दावा किया गया है कि एनएचएआई का कांउटर रात में भी काम करेगा। टोल प्रबंधन के अनुसार सबसे अधिक समस्या एसबीआई, एचडीएफसी और एक्सिस बैंक के द्वारा जारी किये गए फास्टैग से आ रही है, इनके कांउटर न होने से दिन में भी रिचार्ज नहीं हो रहे और न ही वाहन चालकों की फास्टैग संबंधी समस्याओं का समाधान हो रहा है।

फास्टैग से ये होंगी सुविधा
टोल प्लाजा प्रबंधन के अनुसार फास्टैग से टोल देने पर समय की बचत होगी, यहां से वाहन 10 सेकेंड में टोल बूथ से निकल जाएगा। जाम में नहीं रूकना पड़ेगा। प्रदूषण भी नहीं फैलेगा। फास्टैग से टोल देने पर 2.5 प्रतिशत कैश बैक भी मिलेगा। रिचार्ज करने की सेवा को भी फास्ट किया गया है, पहले रिचार्ज अपडेट होने में 10 मिनट तक का समय लेता था लेकिन अब यह 3 मिनट से भी कम समय में अपडेट हो जाता है।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
1 जनवरी से लागू हुए नए नियम के तहत इन दोनों कांउटरों की कैश लेन को भी फास्टैग में बदल दिया गया है।

Comments

Popular posts from this blog

कोतवाली में हाथ जोड़कर मिन्नतें करती रही महिला, कोतवाल ने मारी लात, वीडियो वायरल

सेना के जवान के खिलाफ पाकिस्तान के लिए जासूसी के सबूत मिले, UP ATS की टीम कर रही कड़ी पूछताछ

अभिभावकों से वसूली पूरी फीस, कर्मचारियों का वेतन काट उन्हें निकाला