पत्नी-दो बच्चों के लिए मुस्लिम ने हिंदू धर्म अपनाया, बोला- मैं अपने पूर्वजों के घर आया, मुझे मुसलमानों से खतरा

उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ में सोमवार को एक मुस्लिम शख्स ने अपनी पत्नी और दो बच्चों के लिए हिंदू धर्म अपना लिया। युवक का नाम कासिम खान था, अब वह कर्मवीर के नाम से जाना जाएगा। उसने बेटे का नाम अयाज से बदलकर आशुतोष और बेटी का नाम कशिश रखा है। कर्मवीर ने कहा ''मेरे पूर्वज हिंदू थे। मैंने घर वापसी की है। लेकिन, धर्म परिवर्तन से कहीं मुसलमान कोई अनहोनी न कर दें, इस बात को लेकर डर है। मैं PM मोदी और CM योगी से सुरक्षा की मांग करता हूं।''

8 साल पहले हिंदू लड़की से की थी शादी
दिल्ली गेट थाना क्षेत्र के झलकारी नगर में रहने वाले कासिम खान ने साल 2012 में पड़ोस की ही रहने वाली हिंदू युवती अनीता के साथ प्रेम विवाह किया था। शादी के बाद भी अनीता अपने धर्म का पालन करती रही, जबकि कासिम अपने धर्म का पालन करता रहा। कासिम की तरफ से अनीता के ऊपर धर्म बदलने को लेकर कोई जोर जबरदस्ती नहीं की गई। बाद में कासिम और अनीता के दो संतानें हुईं। जिनकी परवरिश दोनों धर्मों के अनुसार होती रही। अब 8 साल बाद कासिम ने सासनी गेट स्थित आर्य समाज मंदिर में विधिविधान से हवन-पूजन कर बच्चों और पत्नी की मौजूदगी में हिंदू धर्म को अपना लिया।

मुझे मुसलमानों से खतरा: कासिम उर्फ कर्मवीर
कासिम ने कहा कि इस्लाम को छोड़कर हिंदू धर्म में आने का ऐसा मेरा कोई विशेष कारण नहीं है। मेरे पूर्वज हिंदू थे, इसलिए पूर्वजों के धर्म में ही वापसी की है। कासिम ने बताया कि, मेरी शादी 8 साल पहले अनीता कुमारी के साथ हुई थी। हम दोनों स्वतंत्र होकर अपने-अपने धर्म का पालन करते थे। धीरे-धीरे मुझे मालूम पड़ा कि हमारे लिए जो हमारे पूर्वज थे वह हिंदू थे। तो मैंने यह फैसला किया।

मैंने बिना किसी दबाव के हिंदू धर्म में वापसी की है और मैं योगी जी से और मोदी से चाहता हूं कि मैं हिंदू धर्म में आया हूं मेरी सुरक्षा की जाए। क्योंकि मुझे मुसलमानों से खतरा है। वह कभी भी मेरे साथ कुछ भी कर सकते हैं। हमारा परिवार आज हिंदू है। कुछ लोग भटके हुए हैं। हम चाहते हैं कि सही तरीके से आप लोग भी ध्यान दीजिए जिस तरह से हमने घर वापसी की है आप भी घर वापसी कीजिए।

पत्नी बोली- मेरे और बच्चों की खातिर किया धर्म परिवर्तन

अनीता ने बताया कि हमने लव मैरिज की थी। कोर्ट मैरिज के अलावा मंदिर में शादी भी की थी। मेरे पति कासिम ने कभी मुझ पर धर्म परिवर्तन का दबाव नहीं बनाया। मैंने हमेशा अपना धर्म निभाया। शादी को 8 साल हो गए हैं। मेरे दोनों बच्चे हिंदू धर्म में विश्वास करते हैं। मैं अपने बच्चों को हिंदू धर्म की शिक्षा देती हूं। मेरे पति ने कहा कि मैं भी अपना धर्म परिवर्तन कर लेता हूं, क्योंकि हम चारों ही एक ही धर्म के हो जाएंगे और उसके बाद उन्होंने धर्म परिवर्तन कर लिया।

प्रशासन के यहां दी थी एप्लीकेशन

हिंदूवादी नेता नीरज भारद्वाज ने बताया कि यह लोग बहुत लंबे समय से एक घुटन महसूस कर रहे थे। उनका मानना है कि हम भारत के लोग हैं और हिंदुस्तानी हैं। हम बाबर की औलाद नहीं हैं और किसी का कोई स्वाभिमान जब जागृत होता है और वह अपने स्वाभिमान की खातिर अपने स्वयं की इच्छा से और अपना कोई भी धर्म अपना सकता है। वह हिंदू धर्म में आए उनका स्वागत है। उनका शुद्धिकरण हुआ है। इन्होंने 15 तारीख को एक एप्लीकेशन प्रशासन के यहां दिया है और कोई रिस्पांस नहीं मिला। परिवार परेशान था तो उसके बाद आर्य समाज मंदिर में आया।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
यह फोटो अलीगढ़ की है। यहां आर्य समाज मंदिर में हवन पूजन कर कासिम ने हिंदू धर्म अपनाया।

Comments

Popular posts from this blog

कोतवाली में हाथ जोड़कर मिन्नतें करती रही महिला, कोतवाल ने मारी लात, वीडियो वायरल

सेना के जवान के खिलाफ पाकिस्तान के लिए जासूसी के सबूत मिले, UP ATS की टीम कर रही कड़ी पूछताछ

अभिभावकों से वसूली पूरी फीस, कर्मचारियों का वेतन काट उन्हें निकाला