बांदा स्पेशल कोर्ट पहुंची CBI; आज केस डायरी पेश कर सकती है टीम, रिमांड अवधि खत्म होने से 1 दिन पहले ही JE को जेल भेजा गया था

50 से अधिक नाबालिग बच्चों के यौन शोषण मामले में गिरफ्तार JE राम भवन की रिमांड मामले में आज बांदा की स्पेशल कोर्ट (पॉक्सो कोर्ट) में पेशी को लेकर सुनवाई होनी है। इसके लिए दोपहर 12 बजे CBI के चार अफसर तमाम दस्तावेजों के साथ कोर्ट में दाखिल हुए हैं। माना जा रहा है कि आज CBI और आरोपी पक्ष के अधिवक्ता इस मामले में आमने-सामने होंगे। दोनों पक्ष अपने-अपने दावों और शिकायतों को कोर्ट के सामने पेश करेंगे। इस दौरान CBI केस डायरी भी पेश कर सकती है। ऐसे में कोर्ट का निर्णय महत्वपूर्ण माना जा रहा है।

आरोपी जूनियर इंजीनियर सिंचाई विभाग में कार्यरत है। 16 नवंबर को CBI ने चित्रकूट स्थित उसके आवास से उसे गिरफ्तार किया था। इसके बाद उसे विभाग ने सस्पेंड कर दिया था। उस पर 10 साल में 50 से अधिक बच्चों के साथ यौन शोषण करने का आरोप है।

1 दिन पूर्व ही आरोपी जेल में दाखिल

CBI ने 18 नवंबर को आरोपी JE से पूछताछ के लिए ADJ-5 मोहम्मद रिजवान की अदालत से 5 दिन की रिमांड मांगी थी। जिस पर कोर्ट में 26 नवंबर की सुबह 10:00 बजे से लेकर 30 नवंबर शाम 4 बजे तक आरोपी की रिमांड दी थी। इसके बाद CBI आरोपी इंजीनियर को चित्रकूट लेकर गई थी। रिमांड अवधि खत्म होने से एक दिन पहले ही 29 नवंबर को CBI की टीम ने रविवार दोपहर बाद आरोपी को मंडल कारागार में दाखिल कर दिया था। रविवार और सोमवार को अदालत बंद थी। इसलिए आज रिमांड की पेशी है।

इलेक्ट्रानिक गैजेट्स का लालच देता था

CBI की पूछताछ में आरोपी रामभवन ने बताया कि वह 5 से 16 साल के बच्चों को शिकार बनाता था। उन्हें जाल में फंसाने के लिए इलेक्ट्रॉनिक गैजेट्स का लालच देता था। आरोपी के ईमेल की जांच से पता चला है कि आरोपी अश्लील फोटो और वीडियो शेयर करने के लिए देश-विदेश के कई गिरोह के संपर्क में था। आरोपी सोशल मीडिया पर भी यह सामाग्री शेयर करता था। पीड़ित परिवारों को तस्वीरें दिखाकर ब्लैकमेल कर पैसों की मांग कर रहा था।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
बांदा की स्पेशल कोर्ट में पहुंचे CBI के अधिकारी।

Comments

Popular posts from this blog

कोतवाली में हाथ जोड़कर मिन्नतें करती रही महिला, कोतवाल ने मारी लात, वीडियो वायरल

सेना के जवान के खिलाफ पाकिस्तान के लिए जासूसी के सबूत मिले, UP ATS की टीम कर रही कड़ी पूछताछ

अभिभावकों से वसूली पूरी फीस, कर्मचारियों का वेतन काट उन्हें निकाला