बुलंदशहर में जूते के सोल पर जातिसूचक शब्द लिखने पर विवाद, बजरंग दल के एक कार्यकर्ता ने दुकानदार से जताया विरोध

उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर में एक अनोखा मामला देखने को मिला है। यहां जूतों पर जातिसूचक शब्द लिखकर बेचा जा रहा है। एक युवक दुकान पर जूता खरीदने पहुंचा था। जूते के सोल पर नीचे 'ठाकुर' लिखा देखकर उसने दुकानदार से इसका विरोध किया। युवक की तहरीर पर पुलिस ने जूते बेचने और बनाने वाली कंपनी के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। बुलंदशहर के गुलावठी कस्बे में बजरंग दल का कार्यकर्ता विशाल चौहान जूता खरीदने के लिए पहुंचा था। वहां एक दुकानदार नासिर जूता बेच रहा था। जब जूता देखने लगा तो देखा उनपर जाति लिखी हुई थी। इसे देखकर वह हैरान रह गया।

पुलिस से शिकायत शिकायत की
सोमवार की शाम को बजरंग दल का एक कार्यकर्ता विशाल चौहान नासिर की दुकान पर पहुंचा था। पुलिस को दी गई शिकायत में विशाल ने कहा है, 'मैंने देखा कि ज्यादातर जूतों की सोल पर ठाकुर लिखा हुआ है। जो लोग भी ऐसे जूते बनाते हैं और बेच रहे हैं, उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई होनी चाहिए।'

दुकानदार और खरीददार में हुई नोकझोंक
दुकानदार और विशाल के बीच कहासुनी का एक वीडियो भी सामने आया है। इसमें दुकानदार नासिर कह रहा है कि क्या तुम मेरी दुकान बंद कराओगे? इस पर एक शख्स कहता है, 'तुम्हें यहां से जूते हटा देने चाहिए।' इस पर नासिर विरोध करते हुए कहता है, 'क्या मैंने इन्हें बनाया है? क्या इन जूतों पर ठाकुर लिखा देखकर मैं बेचने के लिए लाया था?' इस पर एक और शख्स कहता है, 'तुम इन जूतों को क्यों लेकर आए?'

पुलिस ने दर्ज किया केस
पीड़ित की तहरीर पर गुलावठी थाना पुलिस ने जूता बेचने वाले और बनाने वाली कंपनी के खिलाफ जातिसूचक शब्द का इस्तेमाल करने समेत अन्य धाराओं में एफआईआर दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। पुलिस का कहना है कि जल्द ही आरोपी को गिरफ्तार कर लिया जाएगा।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
यूपी के बुलंदशहर में एक दुकानदार के यहां जूते के सोल पर जातिसूचक शब्द लिखने का मामला सामने आया है। पुलिस ने इस मामले में केस दर्ज कर लिया है।

Comments

Popular posts from this blog

कोतवाली में हाथ जोड़कर मिन्नतें करती रही महिला, कोतवाल ने मारी लात, वीडियो वायरल

सेना के जवान के खिलाफ पाकिस्तान के लिए जासूसी के सबूत मिले, UP ATS की टीम कर रही कड़ी पूछताछ

अभिभावकों से वसूली पूरी फीस, कर्मचारियों का वेतन काट उन्हें निकाला