CBI विशेष अदालत के फैसले को हाईकोर्ट में चुनौती; मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड की तरफ से रिवीजन पिटीशन दायर

लखनऊ: बाबरी मस्जिद विध्वंस के आरोपियों को बरी करने के सीबीआई अदालत के फैसले के खिलाफ शुक्रवार को इलाहाबाद उच्च न्यायालय की लखनऊ पीठ में एक संशोधन याचिका दायर की गई है।
संशोधन को ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड की ओर से हाजी महबूब और हाजी सैय्यद अखलाक अहमद, दोनों अयोध्या के निवासी हैं।
यह कहा गया कि सीबीआई द्वारा विशेष अदालत द्वारा आरोपियों को बरी किए जाने के खिलाफ उच्च न्यायालय के कदम नहीं उठाने के बाद उन्होंने विशेष अदालत के फैसले को चुनौती देने का फैसला किया है।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
बीते साल 16 सितंबर को CBI कोर्ट ने सभी आरोपियों को बरी कर दिया था और कहा था कि बाबरी मस्जिद गिराने की घटना अचानक हुई। न तो कारसेवकों को इसके लिए वहां बुलाया गया था और न ही नेताओं के कहने पर उन्होंने ढांचा गिराया।

Comments

Popular posts from this blog

कोतवाली में हाथ जोड़कर मिन्नतें करती रही महिला, कोतवाल ने मारी लात, वीडियो वायरल

सेना के जवान के खिलाफ पाकिस्तान के लिए जासूसी के सबूत मिले, UP ATS की टीम कर रही कड़ी पूछताछ

अभिभावकों से वसूली पूरी फीस, कर्मचारियों का वेतन काट उन्हें निकाला