महिला आयोग सदस्य चंद्रमुखी ने पीड़ित परिवार से की मुलाकात; SSP से बोलीं- सभी दोषी पुलिसकर्मियों पर एक्शन हो

बदायूं में गैंगरेप के बाद महिला की हत्या के मामले में पुलिस की कार्यशैली पर एक बार फिर सवाल उठ रहे हैं। लोगों का कहना है कि परिजन दुष्कर्म के बाद हत्या की बात कह रहे थे। पीड़ित महिला का शव 18 घंटे घर में पड़ा रहा, लेकिन पुलिस इसे हादसा करार देते रहे। पोस्टमार्टम रिपोर्ट आई तो पुलिस अफसरों के होश उड़ गए। तब कार्रवाई शुरू हुई। दो आरोपी गिरफ्तार हुए हैं। लेकिन मुख्य आरोपी महंत सत्यनारायण फरार है। उस पर 50 हजार रुपए का इनाम घोषित है। गुरुवार को राष्ट्रीय महिला आयोग की सदस्य चंद्रमुखी देवी ने पीड़िता के घर पहुंचकर जानकारी जुटाई है।

आयोग ने DGP से पूछा FIR में इतनी देरी क्यों हुई?
दरअसल, बुधवार को मामला सुर्खियों में आने के बाद राष्ट्रीय महिला आयोग ने भी इसका संज्ञान लिया। आयोग ने UP पुलिस से पूछा कि FIR दर्ज करने में इतनी देरी क्यों हुई? इसके अलावा DGP को पत्र भेजकर इस मामले में हस्तक्षेप करने की मांग की गई थी। गुरुवार को आयोग की सदस्य चंद्रमुखी देवी ने मृतका के घर पहुंचकर घटना की जानकारी जुटाई। परिवार वालों से बात कर पूछा कि आखिर घटना में कौन-कौन लोग शामिल थे? और किस तरीके से पूरी घटना को अंजाम दिया गया?

आयोग सदस्य ने SSP से कहा- एक पर कार्रवाई से काम नहीं चलेगा

आयोग की सदस्य ने SSP से भी मुलाकात की। कहा कि इस प्रकरण में जिन पुलिसकर्मियों ने लापरवाही बरती है, उनके खिलाफ और कठोर कार्रवाई की जाए। केवल एक के खिलाफ कार्रवाई करने से नहीं बचा जा सकता है। बता दें कि उघैती थाना प्रभारी राघवेंद्र को सस्पेंड किया गया है।

पुलिस की भूमिका पर सवाल उठाते हुए आयोग की सदस्य ने कहा कि अगर घटना को पहले से ही सही ढंग से थाना पुलिस द्वारा लिया गया तो महिला की जान भी बचाई जा सकती थी। उसको इलाज भी मिल सकता था। वहीं, अभी तक की कार्रवाई पर महिला आयोग ने कहा कि जो कार्रवाई की गई है, वह योगी सरकार के दबाव के चलते हुई है। अब बदायूं की पुलिस जागी है।

क्या हुआ था....हैवानियत की हदें पार की गई थी
दरअसल, उघैती थाना क्षेत्र के एक गांव की महिला रविवार की शाम 6 बजे पूजा के लिए मंदिर गई थी। करीब 2-3 घंटे बीतने के बाद जब वह घर नहीं लौटी तो घर वाले थाने गए। लेकिन पुलिस ने रात 11 बजे तक उनकी कोई बात नहीं सुनी। आरोप है कि आरोपियों ने दरवाजे की कुंडी खटखटा कर महिला का शव फेंक गए और फरार हो गए। आरोपियों ने जाते समय बताया कि महिला कुएं में गिर गई थी। लेकिन जब मंगलवार को पोस्टमार्टम रिपोर्ट आई तो सभी चौंक उठे। उसके प्राइवेट पार्ट में लोहे की रॉड डालकर उसे बुरी तरह क्षतिग्रस्त कर दिया गया था। इतना ही नहीं मृत महिला के प्राइवेट पार्ट में कपड़ा भी ठूंस दिया गया था।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
यह फोटो बदायूं की है। महिला आयोग की सदस्य ने पीड़ित परिवार से मुलाकात की।

Comments

Popular posts from this blog

कोतवाली में हाथ जोड़कर मिन्नतें करती रही महिला, कोतवाल ने मारी लात, वीडियो वायरल

सेना के जवान के खिलाफ पाकिस्तान के लिए जासूसी के सबूत मिले, UP ATS की टीम कर रही कड़ी पूछताछ

अभिभावकों से वसूली पूरी फीस, कर्मचारियों का वेतन काट उन्हें निकाला